You are currently viewing एक मिसाइल चार निशाने, आकाश बरसाएगा दुश्मनों पर अंगारे 

एक मिसाइल चार निशाने, आकाश बरसाएगा दुश्मनों पर अंगारे 

भारतीय वायु सेवा के द्वारा आंध्र प्रदेश के सूर्य लंका वायु स्टेशन में अस्त्र शक्ति 2023 अभ्यास किया गया। अस्त्र शक्ति अभ्यास के दौरान आकाश मिसाइल एक साथ चार लक्ष्यों पर निशाना साधने में सक्षम हुआ।

वायु सेवा आकाश मिसाइल सिस्टम

भारतीय वायु सेवा ने जमीन से हवा में मार करने वाली जोरदार क्षमता का प्रदर्शन किया है। हाल ही में आंध्र प्रदेश के सूर्य लंका वायु सेवा स्टेशन में हो रहे अस्त्र शक्ति 2023 अभ्यास के दौरान मिसाल प्रणाली की मारक क्षमता का जोरदार प्रदर्शन देखने को मिला है। इस प्रदर्शन के अनुसार समाचार एजेंसी के अनुसार भारतीय वायु सेवा की ओर से आयोजित किए गए अस्त्र शक्ति अभ्यास के दौरान, शक्ति आकाश मिसाइल प्रणाली ने प्रदर्शन करते हुए एक साथ चार लक्ष्य को निशाना बनाया। 

मिसाइल सिस्टम

चार लक्षण को भेदने की क्षमता रखने वाला भारत बना पहला देश

भारत एक ही फायरिंग यूनिट का उपयोग करक कमांड मार्गदर्शन केजरिया करीब 25 किलोमीटर की दूरी पर एक साथ एक नहीं बल्कि कुल चार लक्षयो को निशाना बनाने वाला पहला देश बन चुका है। आकाश मिसाइल की यह क्षमता प्रदर्शन देश के कई न्यूज़ चैनलों के सुर्खियों में है। इस अभ्यास के दौरान चार लक्ष्य को एक ही दिशा से एक साथ कई दिशाओं से रक्षा संपत्तियों पर हमला करने के लिए विभाजित हो गए और आसानी से अपने लक्ष्य को प्राप्त किया। 

आकाश फायरिंग यूनिट

ऑफिशल्स के अनुसार, आकाश फायरिंग यूनिट को फायरिंग लेवल रडार, एक फायरिंग कंट्रोल सेंटर और आकाश वायु सी लॉन्चर एवं पांच सशस्त्र मिसाइल के साथ तैनात किया गया था। फायरिंग लेवल रडार का पता लगाकर उसकी आसानी से ट्रैक किया जा सकता है और चार लक्षण को एक साथ हवाई परिदृश्य के एक बड़े ग्रुप में अपडेट किया गया है।

सूचना के अनुसार खतरे को निष्फल करने के लिए बनाए गए थे एक साथ टारगेट। निष्फल करने के लिए बनाए गए टारगेट के अनुसार आकाश फायरिंग यूनिट ने लॉन्चरों को आगे सोप और एफसीसी कमांडर ने फायरिंग कमान जारी किए के साथ दो आकाश मिसाइल को लॉन्चरों से लांच किया गया और एक लांचर को अगले तीन टारगेट के लिए आगे सौंप दिया गया।

पल भर में लांच हुई चार मिसाइल

कुछ पलों के भीतर ही, कुल चार मिसाइल लॉन्च कर दी गई। सभी मिसाइल एक साथ चार लक्षण को प्राप्त करते हुए, एक साथ अधिकतम सीमा लगभग 30 किलोमीटर पर सफलतापूर्वक निशाने को प्राप्त किया। यह भारत के लिए एक बहुत ही बड़ी कामयाबी और सिद्धि है।

आकाश मिसाइल सिस्टम पहला ऐसा स्वदेशी सिस्टम है जो इतना सक्सेसफुल और आधुनिक जमीन से हवा में आसानी से मार करके एक साथ चार निशानों को प्राप्त किया। इसमें आसमान में रक्षा और सुरक्षा प्रदान करने में असीम क्षमता प्राप्त की। हालांकि वायु सेवा के द्वारा प्रदर्शित किया गया यह सबसे बेहतरीन मिसाइल में से एक है।

डीआरडीओ ने तैयार किया है आकाश मिसाइल सिस्टम

डीआरडीओ, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन के मुताबिक आकाश हथियार प्रणाली को विशेष रूप से तैयार किया गया है। अन्य उद्योगों के साथ मिलकर निर्मित किया गया यह मिसाइल सिस्टम कई मामलों में बेहतर है। भारतीय वायु सेवा में साल 2019 में शामिल किए गए थे। यह मिसाइल सिस्टम से करंट फायरिंग 2019 में भी की गई थी। भारतीय वायु सेवा के द्वारा प्रदर्शित किए गए सभी मिसाइल सिस्टम में बेहतरीन मिसाइल सिस्टम की श्रेणी भी प्रदान की गई।

Leave a Reply